19th Ave New York, NY 95822, USA
WHAT IS THE काव्यम ?
काव्यम the poet association

हम सब भारतीय संस्कृति के पुजारी हैं और हमारी पौराणिक संस्कृति में यह मान्यता है कि हर व्यक्ति के ऊपर कुछ ऋण होते हैं,जिन्हें पूरा करने के लिए व्यक्ति को प्रयास करने चाहिए।

…काव्यम the poet association

काव्यम (The Poet Association) इसी भाव की परिणति है। इसके राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री गजेंद्र सोलंकी जी का शुरुआत से ऐसा मत रहा कि जिस कवि सम्मेलनीय जगत से पैसा,प्रतिष्ठा और देश-विदेशों में इतना यश और सम्मान अर्जित हुआ,उसकी बेहतरी, शुचिता,रचनाधर्मिता और मौलिकता को संरक्षित एवं आगे बढ़ाने हेतु हर रचनाकार का कर्तव्य है कि वह अपना सार्थक योगदान दे,

भारत वर्ष प्रतिभा और संभावनाओं से भरा हुआ राष्ट्र है, जहां एक से बढ़कर एक प्रतिभाओं ने अपनी चेतना,ऊर्जा और विशेष प्रयास से राष्ट्र को गौरवान्वित करने का समय-समय पर कार्य किया है। इन मौलिक एवं सहज प्रतिभाओं को एक मंच पे लाने, उन्हें उचित अवसर देने एवं परंपरा की भलाई हेतु अनेकों साहित्यिक संस्थाओं ने समय-समय पर अपना योगदान भी दिया है। काव्यम का गठन संस्था की दृष्टि से नहीं अपितु एक परिवार की दृष्टि से किया गया है,जिसका उद्देश्य कविता,मंचीय शुचिता एवं श्रेष्ठ रचनाकारों के श्रेष्ठ विचारों, मौलिक सृजन एवं सकारात्मक सोच के साथ एक परिवार की भांति प्रतिभाओं को स्वस्थ माहौल प्रदान कर काव्य परंपरा की गरिमा को आगे ले जाना है। यह कार्य बिना आप सभी साहित्य-साधकों के सहयोग,सकारात्मक प्रयास एवं शुभकामनाओं के बिना संभव नहीं है। इसीलिए काव्यम (The Poet Association) आप सभी साहित्य -साधकों से सार्थक सहयोग की आकांक्षा करती है।आइए हम सब मिलकर मंचीय परम्परा की भलाई हेतु अपना भी योगदान सुनिश्चित करें।
काव्यम परिवार ने जुड़ने वाले किसी भी कवि या साहित्यप्रेमी से आर्थिक सहयोग की बाध्यता न रखते हुए इस विषय को स्वविवेक पर छोड़ा है, परिवार से जुड़े हर सदस्य का दृढ़ मत है कि हर कवि,साहित्यकार या किसी भी क्षेत्र से जुड़े हुए कलाकार के स्वाभिमान का सम्मान सर्वप्रथम सुनिश्चित होना चाहिए, जिस दिशा में काव्यम the poet association पूरी निष्ठा से कार्य करने का प्रयत्न करेगी।
वर्तमान दौर में वैश्विक स्तर पर हिंदी के प्रचार-प्रसार एवं मनोरंजन के बेहद लोकप्रिय माध्यम के रूप में कवि सम्मेलनों ने तेज़ी से अपना महत्व सिद्ध किया है,जहाँ प्रस्तुतिकरण की विशेष शैली और आये हुए श्रोताओं को मनोरंजन के साथ-साथ देश,समाज और वर्तमान परिस्थितियों पर नया व रोचक सुनने को प्राप्त होता है।
पिछले कुछ दशकों में हिंदी कविता की वाचिक परम्परा ने युवाओं के बीच भी अपनी लोकप्रियता सिद्ध की है। आज कवि सम्मेलनीय जगत के ऐसे कई बड़े नाम हैं जिनका स्टारडम अन्य क्षेत्रों के किसी बड़े सेलिब्रिटी से कम नहीं आंका जा सकता।
कवि सम्मेलनों में जहां एक ओर स्थापित वरिष्ठ कवि हिंदी को देश-दुनिया में लोकप्रिय बनाने के पुनीत कार्य में लगे हुए हैं वहीं दूसरी ओर युवा पीढ़ी भी इस दिशा में एक अहम कड़ी सिद्ध हुई है।पिछले कुछ-एक वर्षों में ऐसे कई युवा नाम आये जो तेज़ी से काव्यमंचों पर लोकप्रियता की बुलंदियों को छूने लगे,इन्ही युवा चेहरों में से एक महत्वपूर्ण नाम है, रीवा,मध्यप्रदेश से दिल्ली आए युवाकवि राधाकान्त पाण्डेय का, जिन्होंने अपने श्रेष्ठ लेखन व प्रस्तुतिकरण की सहज शैली से पिछले 4-5 वर्षों में कवि सम्मेलनीय जगत में एक विशेष जगह बनाई है।
वर्तमान समय में जब देश के अधिकांश कवि श्रोताओं की तालियों के मोह में अपनी कविताओं में दुअर्थी संवाद,छिछलेदार और निकृष्ट भाषा का प्रयोग करने से भी गुरेज नहीं करते वहीं महत्वपूर्ण विषयों पर गरिमापूर्ण एवं भाषाई मर्यादा के साथ सहजता से विषयों को रखना कवि राधाकान्त पाण्डेय को अन्य कवियों से अलग बनाता है।
यही कारण है कि बहुत कम उम्र में राधाकांत सफ़लतम की नित नई ऊँचाइयों को छू रहे हैं।
बात चाहे देश के कई बड़े मंचों पर कविता पढ़ने की हो या विभिन्न टीवी चैनलों में कवि राधाकान्त पाण्डेय हर जगह देखे जा सकते हैं।
पत्रकारिता में स्नातकोत्तर करने के वाले कवि राधाकान्त पाण्डेय आज पूर्ण रूप से कवि सम्मेलनों में सक्रियता को ही अपना लक्ष्य बनाकर चल रहे हैं।
एक परिचय-
नाम-राधाकांत पाण्डेय(संस्कार एवं वीर रस के कवि)
लेखन – घनाक्षरी, मुक्तक,गीत एवं कविताएं।
जन्म- 05-07-1989
स्थान-ग्राम-कोष्ठा,पोस्ट-बड़ोखर, तहसील-चुरहट, जिला-सीधी(म.प्र.)
पिता-श्री नन्दनन्दन पाण्डेय
(रिटायर्ड प्रोफेसर, संस्कृत साहित्य)
माता-श्रीमती द्रोपदी पाण्डेय
शिक्षा-पत्रकारिता में स्नातकोत्तर
उपलब्धि-दिल्ली हिंदी साहित्य सम्मेलन के विश्वविद्यालयीन स्तर पर स्वरचित कविता पाठ प्रतियोगिता के विजेता।
-दसवें विश्व हिंदी सम्मेलन की काव्य-स्मारिका के सह-संपादक
-AVBP द्वारा दिल्ली चुनावों में प्रयोग किये गए लोकप्रिय गीत एबीवीपी वंस मोर के रचनाकार
-उज्जैन कुम्भ में आयोजित कवि सम्मेलन में काव्यपाठ
-विभिन्न लोकप्रिय टीवी चैनलों में काव्यपाठ

हमारे भारतवर्ष या कहें आर्यावर्त की सभ्यता, संस्कृति अध्यात्म से ओतप्रोत, ईश्वरीय परमसत्ता में विश्वास रखने वाली प्रकृतिवादी संस्कृति रही है। नदियों, ऋतुओं एवं कवियों-कविताओं की संस्कृति है। हम सब इसी भारतीय संस्कृति के पुजारी हैं और हमारी पौराणिक संस्कृति में यह मान्यता है कि हर व्यक्ति के ऊपर कुछ ऋण होते हैं,जिन्हें पूरा करने के लिए व्यक्ति को प्रयास करने चाहिए। काव्यम The Poet’s Association इसी भाव की परिणति है । इसके राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री गजेंद्र सोलंकी जी का शुरुआत से ऐसा मत रहा कि जिस कवि सम्मेलनीय जगत से पैसा, प्रतिष्ठा और देश-विदेशों में इतना यश और सम्मान अर्जित हुआ,उसकी बेहतरी, शुचिता,रचनाधर्मिता और मौलिकता को संरक्षित एवं आगे बढ़ाने हेतु हर रचनाकार का कर्तव्य है कि वह अपना सार्थक योगदान दे।
वेदों, पुराणों, उपनिषदों, रामायण, श्रीमदभगवद्गीता सहित संस्कृत,प्राकृत,हिंदी आदि अनेक भारतीय भाषाओं में रचित काव्य साहित्य का अनंत भंडार इस बात का प्रमाण है कि कवियों ने युगों से अपने लौकिक, आलौकिक सृजन से लोक जन चेतना को सींचने के साथ-साथ साहित्यिक सांस्कृतिक, धार्मिक, सामाजिक प्रवाह के किनारे बाँधने का भागीरथ कार्य किया है। वर्तमान में बदलते परिवेश में भी कविता की सार्थकता सर्वविदित है । किसी भी मौलिक कवि अथवा कलाकार की प्रतिभा प्रकृति एवं ईश्वर प्रदत्त होती है जिसे देशकाल परिस्थितियाँ तराशती रहती हैं । ऐसे कवियों, कलाकारों की प्रतिभा का संरक्षण,संवर्धन कवि-साहित्यिक समाज अथवा किसी भी क्षेत्र से संबंधित समृद्ध, समर्थ, सक्षम महानुभावो का नैतिक कर्तव्य होना चाहिए ताकि काव्य का प्रवाह जनमानस अर्थात मानव मन की रसमयता को निरंतर बनाये रख सके ।
‘काव्यम’ का गठन संस्था की दृष्टि से नहीं अपितु एक काव्य परिवार की दृष्टि से किया गया है,जिसका उद्देश्य कविता, मंचीय शुचिता एवं श्रेष्ठ रचनाकारों के श्रेष्ठ विचारों, मौलिक सृजन एवं सकारात्मक सोच के साथ एक परिवार की भांति प्रतिभाओं को स्वस्थ वातावरण प्रदान कर काव्य परंपरा की गरिमा को आगे ले जाना है। यह कार्य बिना आप सभी साहित्य-साधकों के सहयोग, सकारात्मक प्रयास एवं शुभकामनाओं के बिना संभव नहीं है। इसीलिए काव्यम The Poet’s Association आप सभी काव्य साहित्य के साधकों से सार्थक सहयोग की आकांक्षा करती है। आइए हम सब मिलकर मंचीय परम्परा की भलाई हेतु अपना भी योगदान सुनिश्चित करें। ‘काव्यम’ परिवार ने जुड़ने वाले किसी भी कवि या साहित्यप्रेमी से आर्थिक सहयोग की बाध्यता न रखते हुए इस विषय को स्वविवेक पर छोड़ा है, परिवार से जुड़े हर सदस्य का दृढ़ मत है कि हर कवि, साहित्यकार या किसी भी क्षेत्र से जुड़े हुए कलाकार के स्वाभिमान का सम्मान सर्वप्रथम सुनिश्चित होना चाहिए, जिस दिशा में काव्यम The Poet’s Association पूरी निष्ठा, समर्पण, पारदर्शिता एवं निरपेक्ष भाव से कार्य करने का प्रयत्न करेगी।शेष आप सभी का सहयोग और सार्थक सुझाव समय-समय पर हमें मार्गदर्शित करता रहेगा,ऐसा हमारा दृढ विश्वास है.

OUR MISSION
1

Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipisicing elit, sed do eiusmod tempor incididunt ut labore et dolore magna aliqua.

2

Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipisicing elit, sed do eiusmod tempor incididunt ut labore et dolore magna aliqua.

3

Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipisicing elit, sed do eiusmod tempor incididunt ut labore et dolore magna aliqua.

4

Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipisicing elit, sed do eiusmod tempor incididunt ut labore et dolore magna aliqua.

STRENTHS & SKILLS

Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipisicing elit, sed do eiusmod tempor incididunt ut labore et dolore magna aliqua. Ut enim ad minim veniam, quis nostrud exercitation ullamco laboris nisi ut aliquip.

Databases
0%
Programming
0%
Usability
0%
Design
0%
FACTS AND ACHIEVEMENTS
Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipisicing elit

Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipisicing elit, sed do eiusmod tempor incididunt ut labore et dolore magna aliqua. Ut enim ad minim veniam, quis nostrud

lorem ipsum (Demo)
lorem ipsum (Demo)

Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipisicing elit, sed do eiusmod tempor incididunt ut labore et dolore magna aliqua. Ut enim ad minim veniam, quis nostrud

Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipisicing elit, sed do eiusmod tempor incididunt ut labore et dolore magna aliqua. Ut enim ad minim veniam, quis nostrud

lorem ipsum (Demo)
lorem ipsum (Demo)

Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipisicing elit, sed do eiusmod tempor incididunt ut labore et dolore magna aliqua. Ut enim ad minim veniam, quis nostrud

Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipisicing elit, sed do eiusmod tempor incididunt ut labore et dolore magna aliqua. Ut enim ad minim veniam, quis nostrud

lorem ipsum (Demo)
lorem ipsum (Demo)

Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipisicing elit, sed do eiusmod tempor incididunt ut labore et dolore magna aliqua. Ut enim ad minim veniam, quis nostrud

Not just a wordpress theme. A real design jewel!
OUR CORE VALUES
MAGIC CODING (Demo)
Lorem ipsum dolor sit ametcon sectetur adipisicing elit, sed doiusmod tempor
CREATIVE DESIGN (Demo)
Lorem ipsum dolor sit ametcon sectetur adipisicing elit, sed doiusmod tempor
BRAND CONCEPTS (Demo)
Lorem ipsum dolor sit ametcon sectetur adipisicing elit, sed doiusmod tempor
SEO & MARKETING (Demo)
Lorem ipsum dolor sit ametcon sectetur adipisicing elit, sed doiusmod tempor
ASK A QUESTION / CONNECT WITH US
our agency has expanded and developed over the years
testimonial-team (Demo)
STEVEN BEALS
Senior Sales Manager
+1 (987) 1625346
testimonial-team (Demo)
STEVEN BEALS
Senior Sales Manager
+1 (987) 1625346
testimonial-team (Demo)
STEVEN BEALS
Senior Sales Manager
+1 (987) 1625346
testimonial-team (Demo)
STEVEN BEALS
Senior Sales Manager
+1 (987) 1625346

Phone

+1 916-875-2235

b b
Fax

+1 916-875-2235

Email

info@domain.ltd

WebSite

www.codex-themes.com

OUR LATEST WORKS

Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipisicing elit, sed do eiusmod tempor incididunt ut labore et dolore magna aliqua. Ut enim ad minim veniam, quis nostrud exercitation ullamco laboris nisi ut aliquip ex ea commodo consequat. Duis aute irure dolor in reprehenderit in voluptate velit esse cillum dolore eu fugiat nulla pariatur.