97- A, U & V Block West Shalimar Bagh, Delhi – 110088

महाकवि को विनम्र श्रद्धांजलि 🙏🏻

महाकवि को विनम्र श्रद्धांजलि 🙏🏻

गीतों का अब फिर से स्वर्णिम, दौर नहीं हो सकता है ।
हिन्दी कविता का ऐसा’ सिरमौर नहीं हो सकता है ।।
कवि, लेखक या गीतकार तो, लाखों मिल जायेंगे पर,
दुनिया में ‘नीरज’ सा कोई, और नहीं हो सकता है ।।

मनवीर ‘मधुर’ ( A POET OF PATRIOTISM )

Leave a comment

Chat With me